Hasyan Hiyo Khile

हास्यां हियौ खिलै
Author : Shyam Sundar Bharti
Language : Rajasthani
Edition : 2017
ISBN : 97881887577510
Publisher : Rajasthani Granthagar

300.00

हास्यां हियो खिले :
आवौ थोड़ा हंसा हंसावां, इण धरती नै सुरग बणावां।

हंसी बिना नर थोबड़–थुक्कौ, जाणौ केई दिनां रौ भुक्कौ, जाणै के फाटोड़ौ रुक्कौ, जाणै कोई खोटो सिक्कौ।
आं चैरा पे हांसी लावां, आवौ थोड़ा हंसां हंसावां।
हंसै नहीं वौ मिनख सूमड़ौ, जाणै के आंबो खटूमड़ौ, होंठां ऊपर कोई गूमड़ौ, जनम-जात रौ उमण-दूमड़ौ।
हंस हंसनै मनड़ौ बिलमावां, आवौ थौड़ा हंसा हंसावां।
हंसणौ है वरदान मिनख नै, औ दीनों भगवान मिनख नै, हांसी औखद पान मिनख नै, जीवण है आसान मिनख नै।
हंसी सबां रै होंठा लावां, आवौ थोंड़ा हंसां हंसावां।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Hasyan Hiyo Khile”

Your email address will not be published.