Shabda-Veena (Kundaliya Sangrah)

शब्द-वीणा  (कुण्डलिया संग्रह)
Author : Tarkeshwari Yadav ‘Sudhi’
Language : Hindi
Edition : 2022
ISBN : 9789391446369
Publisher : Rajasthani Granthagar

150.00

SKU: RG434-2-1-1 Category:

शब्द-वीणा  (कुण्डलिया संग्रह) : यह एक कुण्डलिया संग्रह है, जिसमें दो सौ पैंतालिस कुण्डलिया शामिल है। Shabda Veena (Kundaliya Sangrah)

कुण्डलिया एक प्राचीन छंद है तथा इसकी संरचना थोड़ी-सी जटिल है। यह दोहा और रोला के मेल से बनती है। इसके प्रथम दो चरण दोहा तथा अंतिम चार चरण रोला के होते हैं। इस तरह से छः चरण होते हैं और सभी में चौबीस मात्राएँ होती हैं। यह मात्रिक छंद है इसलिए इसको लिखने से पूर्व मात्राओं का ज्ञान आवश्यक है। मात्रा गणना पर विभिन्न विद्वानों ने काफी कुछ लिखा है जिसकी जानकारी विभिन्न माध्यमों से प्राप्त हो जाती है। ‘शब्द – वीणा’ में भी मैंने अपनी पूर्व पुस्तकों की भाँति मात्रात्मक शुद्धता को बनाये रखने की कोशिश की है।

किसी भी रचना को अगर छंद में लिखा जाए तो इसका आनन्द ही अलग होता है। इससे रचना में गेयता आने के कारण वह मन को भाने लगती है और भावनाओं को झंकृत करने लगती है। इसीलिए छंद का अपना विशेष महत्व है। Shabda Veena (Kundaliya Sangrah)

click >> अन्य सम्बन्धित पुस्तकें
click >> YouTube कहानियाँ

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Shabda-Veena (Kundaliya Sangrah)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *