Rajasthani Neetiparak Sambodhan Kavya

राजस्थानी नीतिपरक सम्बोधन काव्य (हिन्दी अनुवाद सहित)
Author : Dr. Bhagwatilal Sharma
Language : Hindi
Edition : 2007
ISBN : N/A
Publisher : Rajasthani Granthagar

150.00

SKU: RG406 Category:

राजस्थानी नीतिपरक सम्बोधन काव्य (हिन्दी अनुवाद सहित) : राजस्थानी का विपुल वाङ्मय शक्ति, भक्ति और अनुरक्ति के साथ-साथ नीति की मुक्ता-मणियों से भी आलोकित है। इसके प्रबन्ध-काव्य तो नीतिपरक सरस सूक्तियों से सुशोभन हैं ही, परन्तु स्वतंत्र रूप से नीतिपरक मुक्तक-काव्य भी इसमें प्रचुर परिमाण में रचा गया है।

यहाँ के नीतिकारों का विषय-चयन तो परम्परित ही रहा; परन्तु उन्होंने अपनी अभिव्यक्ति में उसे एक अनूठा ही स्वतंत्र काव्य-रूप दे डाला। छंदों के वामनावतार ‘दोहा’ के ‘सोरठा’ -भेद के चतुर्थचरणांत में अपनत्व का अमृत उँडेलते हुए अपने प्रिय पात्र को स्नेह-सने संबोधन से सम्बोधित कर इन नीतिकारों ने ऐसी सुंदर नवीन शैली की नींव डाल दी; जो आज भी सर्जन के क्षेत्र में सम्मानित है। यह ऐसा अनुपम विरल दृष्टांत है, जो किसी अन्य भाषा में शायद ही उपलब्ध हो।

उक्ति-वैचित्र्य वाणी का विभूषण होता है, उसे सामान्य से विशेष बनाने वाला। वाणी को समृद्ध तथा प्रभविष्णु बनाने हेतु यह उक्ति-वैचित्र्य-समन्वित सोरठावली यहाँ सम्मानित रही है और रहेगी। जीवनमूल्यों के प्रति आग्रह रखने वाले राजस्थानी जनमानस को इन सत्यान्वेषी सोरठाकार रूप कबीरों का यह अमर शब्दोपहार है। उनके अनुभव-चिंतन की ये शब्द-नौकाएँ काल-धारा में सदैव संतरण करती रहेंगी। ऐसे नीति-निपुण सोरठाकारों को रंग है, रंग है, रंग है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Rajasthani Neetiparak Sambodhan Kavya”

Your email address will not be published.