Maa Swangiyan Evam Unaki Upasika

माँ स्वांगिया एवं उनकी उपासिका
Author : Man Mahendra Singh Chauhan, Rekha Rathore
Language : Hindi
Edition : 2020
ISBN : 9789387297968
Publisher : Rajasthani Granthagar

100.00

माँ स्वांगिया एवं उनकी उपासिका

हम आपको मान महेन्द्र सिंह चौहान द्वारा लिखित पुस्तक “माँ स्वांगिया एवं उनकी उपासिका” के बारे में बताने जा रहे है। माँ स्वांगिया, जिन्हें आवड़ माता, तनोट माता, श्री भादरिया राय इत्यादि नामों से भी जाना जाता है। in fact यह भाटी राजपूतों की कुलदेवी होने के साथ-साथ अनेक वंशों की इष्ट देवी भी है। Maa Swangiyan Evam Upasika

also इस पुस्तक में माँ स्वांगिया के चमत्कारों के अतिरिक्त उनकी एक अनन्य उपासिका के बारे में भी बताया गया है, जिसने अपना सम्पूर्ण जीवन माँ भगवती के चरणों में समर्पित कर दिया। माँ भगवती के उपासक भाटी राजवंश की वंशावली को भगवान कृष्ण से लेकर वर्तमान तक क्रमबद्ध किया गया है एवं समय-समय पर अनुभव किए गए दैवीय चमत्कारों का सजीव वर्णन इस पुस्तक में किया गया है। चमत्कार के किस्से जो हम सुनते है, वो लगभग एक हजार वर्ष पुराने होते है या सौ वर्ष पुराने होते है लेकिन हम आपको इस पुस्तक के माध्यम से 50 वर्ष पुरानी एक जिंदगी की देवी माँ स्वांगिया की अविश्वसनीय दास्तान बताने जा रहे है।

यह कहानी है युद्ध की, वीरता की, जीत की और माँ के चमत्कार की। यह कोई अफवाह या भ्रम नहीं है। यह ऐसा चमत्कार था, जिसके प्रत्यक्षदर्शी आज भी जिन्दा है, जिन्होंने माता के चमत्कारों को अपनी आँखों से देखा था। हम बात कर रहे है in time 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान हुए चमत्कार की। केवल बात 1965 की होती तो किताबों में कहानी बनकर रह जाती, 1971 में भी माँ के आर्शीवाद से जैसलमेर की रेत पाकिस्तान की कब्रगाह बन गई। surely इस चमत्कार की देवी एवं उनकी 80 वर्षों तक साधना करने वाली उपासिका के बारे में पढ़कर आप अवश्य गौरवान्वित होंगे।

Maa Swangiyan Evam Upasika

Maa Swangiya Ka Itihas (History), Maa Swangiya Ke Chamatkar, Maa Swangiya Ki Ghatanayen, Maa Swangiya Jivan-Darshan, Maa Swangiya Stuti, Maa Swangiya Aarti, Maa Swangiya Mantra, Maa Swangiya Mandir, Maa Swangiya Osian (Osiya)

click >> अन्य सम्बन्धित पुस्तकें
click >> YouTube कहानियाँ

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Maa Swangiyan Evam Unaki Upasika”

Your email address will not be published.