Prithviraj Raso – Mahakavi Chand Bardai Krit, 4 vols. (Hindi Anuwad Sahit)

Author: Kaviraj Mohan Singh
Language: Hindi
Edition: 2018
ISBN: 9789387297043
Publisher: RG GROUP

2,500.00

Out of stock

SKU: RG538 Categories: ,

रासो साहित्य में महाकवि चन्द बरदाई कृत पृथ्वीराज रासो सर्वश्रेष्ठ काव्य रचना है। उसके लिये यह कहना उचित ही होगा कि उसका स्वरूप समय-समय पर परिवर्द्धित होता रहा है, जिससे भाषा के आधार पर उसके रचनाकाल का निर्णय करने में अनेक उलझने उत्पन्न होती है। इतना होते हुए भी काव्य की दृष्टि से वह बहुत ही प्रौढ़ रचना है। ऐसे महत्त्वपूर्ण महाकाव्य का अनुवाद और संपादन का कार्य कविराव मोहनसिंह जैसे विद्वत व्यक्तित्व वाला व्यक्ति ही कर सकता था। कविराव मोहनसिंह ने न केवल ग्रंथ का संपादन किया बल्कि शब्दार्थ तथा हिन्दी अनुवाद कर ग्रंथ को आम पाठकों तक चार खण्डों में सुलभ कराया। इस पुस्तक को पढ़ने में चौहान जाति को अपने पूर्वजों के कृत्यों पर गौरव का अनुभव होगा, वहीं दूसरे लोगों को भी चौहान जाति के बारे में जानने का मौका मिलेगा।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Prithviraj Raso – Mahakavi Chand Bardai Krit, 4 vols. (Hindi Anuwad Sahit)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *