Santon ke Prerak evam Rochak Prasang

Author : Daksha Singhvi
Language : Hindi
Publisher : RG GROUP

300.00

संतो के प्रेरक एवं रोचक प्रसंग : सन्त यानी मूर्तिमान आनन्द। सन्तों के शब्द जन-मत को प्रमुदित ही नहीं करते, प्रेरणा भी प्रदान करते हैं। उनके सहज, सरल व रोचक प्रसंग प्रत्येक मानव के जीवन के लिए प्रेरणादायक संजीवनी की भांति है। ये प्रेरक प्रसंग निराशजनों की आशा, अकर्मण्यों की कर्मचेतना, कर्मवीरों का प्रकाश स्तम्भ की भांति पथ को आलोकित और दिशा निर्देशित करते हैं। हमारे यहाँ शब्द को ब्रह्म माना गया है। शब्द में छन्द मिलने पर काव्यत्व प्राप्त होता है और शब्द में संतों का सत्य और तपस्वियों का तप मिल जाने पर शब्द में मंत्रत्व प्राप्त होता है। ऐसे मंत्रत्व प्राप्त शब्द प्रत्येक मनुष्य के जीवन में सात्विक और क्रांतिकारी परिवर्तन लाने का अमोघ सामथ्र्य रखते हैं। विश्व के सुप्रसिद्ध संतों, चिंतकों, विचारकों, दार्शनिकों और महापुरुषों के प्रेरक प्रसंग इस संग्रह में संकलित किये गये है, जो लाखों लोगों के लिए प्रेरणादायक और लाभदायक सिद्ध होंगे। इस ज्ञान ज्योति से समस्त लोगों का पथ आलोकित होगा, इसमें तनिक भी सन्देह नहीं। प्रेरक और रोचक प्रसगों का यह संग्रह सुधि पाठकों के लिए निश्चित रूप से उपादेय सिद्ध होगा।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Santon ke Prerak evam Rochak Prasang”

Your email address will not be published. Required fields are marked *